new    ई – भर्ती के लिए यहां क्लिक करे ।

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का संदेश

डॉ दिनेश कुमार लेखी                                                                  

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

प्रिय भागीदारों,      

नव वर्ष 2018 के शुभारंभ पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ!

वर्ष 2017, अभी-अभी खत्म हुआ है। यह वर्ष खट्टा-मीठा रहा । वित्तीय वर्ष 2016-17 में हमने साथ मिलकर लगभग 810 करोड़ रुपए का कारोबार किया था जो कि मिधानि के इतिहास में अबतक का सबसे अच्छा कारोबार रहा है। मिधानि की स्थापना से अबतक का सबसे अधिक मुनाफा हमने इसी वर्ष कमाया। लगातार पांच वर्षों से मिधानि समझौता ज्ञापन के मानकों के अनुसार “उत्कृष्ट” रेटिंग प्राप्त कर रही है। माननीय रक्षा मंत्री ने मिधानि के आधुनिकीकरण कार्यक्रम के चरण # 1 के तहत शुरू की गई सुविधाएं देश को समर्पित कीं और वाइड प्लेट मिल की महापरियोजना का शिलान्यास रखा। मिधानि ने अपने महत्वाकांक्षी आधुनिकीकरण और विस्तार योजना के चरण # 2 को प्रारंभ किया। हमारी कंपनी ने आंध्र प्रदेश के नेल्लूर और हरियाणा के रोहतक में क्रमशः एक एल्यूमीनियम मिश्र धातु प्लांट और एक आर्मरिंग यूनिट स्थापित करने के लिए जमीन अधिग्रहित की। इन स्थानों पर जमीन के अधिग्रहण से और ठोस योजनाओं के तहत मिधानि एक इकाईवाले संगठन से अब एक बहु-इकाईवाले संगठन के रूप में विकसित होने की ओर अग्रसर है। ये प्रयास दिखने में छोटे लग सकते हैं लेकिन काफी महत्वपूर्ण कदम हैं जो कि मिधानि के भविष्य को उज्ज्वल बनाने में निश्चित रुप से सक्षम हैं। कार्यपालकों और गैर-यूनियनाइज्ड पर्यवेक्षकों के लिए तीसरे वेतन परिशोधन को सफलतापूर्वक लागू किया दिया गया। वर्ष 2017 में स्टॉक एक्सचेंज में मिधानि के शेयरों को सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया भी शुरु हुई।

परंतु, मौजूदा वित्तीय वर्ष में अबतक उत्पादन और लाभप्रदता प्रदर्शन लक्ष्य के अनुरूप नहीं रहा है। वर्ष 2017 में, संयंत्र में कुछ दुर्घटनाएं हुईं, लेकिन ईश्वर की असीम अनुकंपा से ये दुर्घटनाएँ दुखद घटनाओं में नहीं बदलीं। ये घटनाएं हमें आत्ममंथन करने के लिए मजबूर करती हैं। इसके अलावा इन घटनाओं से हमें यह सीख मिली है कि हमारी परंपरागत कार्यप्रणाली व उत्पादन अनुशासन में भी गंभीर आत्मविश्लेषण करने की आवश्यकता है। मिधानि ने हमेशा संरक्षा एवं सुरक्षा को तरजीह दी है।

आगे देखते हुये, मैं वर्ष 2018 को चुनौतियों का समाधान करते हुए, गति को फिर से हासिल करने के एक महत्वपूर्ण वर्ष के रूप में देखता हूं। राष्ट्रीय सुरक्षा और सामरिक महत्व के विशेष मिश्रधातु और उत्पादों के अनुसंधान, विकास, निर्माण और आपूर्ति में आत्मनिर्भरता हासिल करने की कंपनी की दीर्घकालिक दृष्टि बनी रहेगी। अपने ग्राहकों के लिए मूल्यवान कार्य करते हुए,  हम गौरव  और विनम्रता के साथ राष्ट्र की सेवा में लगे रहेंगे। कंपनी की चुनौतियां यथावत रहेंगी, जैसे –

1.  पुनर्प्राप्ति व विनिर्माण क्षमताओं का उन्नयन करना;
2.  लागत प्रतिस्पर्धा व वितरण में सुधार करना;
3.  उत्पाद के पोर्टफोलियो का विस्तार, बाजार के रुख की पहचान करके नए बाजार जैसे कि आर्मरिंग सेक्टर, शिप बिल्डिंग सेक्टर, पावर सेक्टर, रेलवे और अन्य इंजीनियरिंग उद्योग में प्रवेश करना ताकि विकास के साथ-साथ अधिक सुसंगत तरीके से शीर्ष पंक्ति में कंपनी का स्थान सुनिश्चित करना; तथा
4.   स्थायी एवं निरंतर विकास को सुनिश्चित करने के लिए युवा कार्मियों को तकनीकी कौशल प्रदान करना;

5. निर्धारित समयावधि में बिना लागत बढ़ाए कंपनी के आधुनिकीकरण और विस्तार के महत्वपूर्ण लक्ष्य को हासिल करना।

वर्ष 2017 में हमने कुछ क्षेत्रों में सामरिक कार्यों की पहल की थी जो वर्ष 2018 में पूर्ण होंगे। कंपनी द्वारा किए गए पूंजीगत उपकरणों में निवेश से भी इस नव वर्ष के द्वितीय अर्ध वर्ष में लाभांश मिलना आरंभ होगा। मिधानि में किए जा रहे फोर्ज शॉप के उन्नयन और आधुनिकीकरण का कार्य वर्ष 2018 के प्रथम अर्ध वर्ष में पूर्ण होगा। यह हम सब की जिम्मेदारी है, कि द्वितीय अर्ध वर्ष से, इस शॉप से प्रतिमाह एक हजार टन फोर्जिंग के उत्पाद को सुनिश्चित करें।

वर्ष 2018, चुनौतियों का समाधान करके विकास मार्ग पर वापस लौटने का वर्ष होगा। हमें अपने व्यापारिक योजना के तहत कार्यान्वित किए जाने वाले सामरिक उपायों के सकारात्मक प्रभावों को अधिकतम करना होगा।

हमें इस वर्ष ठोस व स्पष्ट परिणाम प्राप्त करने होंगे। इसलिए मैं आप सभी से कहना चाहूँगा कि मिधानि के लिए आप सब अपना  100% योगदान दें। आइए, हम सब साथ मिलकर मिधानि को एक ऐसी कंपनी के रुप में आगे ले जाएँ जो हमेशा मजबूत बनती रहे और उत्साह से भरी रहे। खोए हुए अवसर हमारे लिए अवश्य दीपस्तंभ बनेंगे जो हमें आगे के कार्य के लिए मार्ग दिखाएँगे और चुनौतियों का सामना करने का धैर्य प्रदान करेंगे जिससे हम अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकें।

जब आप काम करें तो मुख्यतः दो बातों पर अवश्य ध्यान दें : ये अधिकार सौंपें जिससे कर्मचारियों को प्रेरित किया जा सके ताकि वो दो-तरफा वार्तालाप के माध्यम से और उम्र, पीढ़ी, पद और वर्ग पर ध्यान दिये बिना नए-नए प्रयोग कर सकें और आने वाली समस्याओं का अग्रसक्रिय हो कर समाधान निकाल सकें। हमें एक ऐसे कार्यस्थल के निर्माण की आवश्यकता है जहाँ लोग निर्देशों का इंतजार न करें बल्कि जरूरत के अनुसार आगे बढ़ के कार्य को पूरा करें।

हमारे कार्यस्थलों पर सुरक्षा एवं स्वास्थ्य को सुनिश्चित करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।  हमें 2018 में दुर्घटना रहित कार्यस्थल के निर्माण की दिशा में और भी अधिक दृढ़-शक्ति लगाने की आवश्यकता है।

एक बार फिर, मैं यह दोहराता हूँ कि "साथ मिलकर हम हासिल करेंगे" नई ऊंचाईयाँ और करेंगे हर प्रकार की चुनौतियों का सामना।  मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि आपके लिए और आपके प्रियजनों के लिए, यह नव वर्ष सफलताओं से भरा हो।

आप सभी को धन्यवाद,

जय हिन्द



यह मिश्र धातु निगम लिमिटेड- एक मिनी रत्‍न स्‍टेटस वाले सार्वजनिक उद्यम, रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार की सरकारी वेबसाइट है ।
कॉपीराइट (सी) 2015 मिश्र धातु निगम लिमिटेड (मिधानि) ।